विवादों में वांडरर्स की पिच, तीसरे टेस्ट पर संकट के बादल, अंपायर लेंगे फैसला

wanderers
wanderers

विवादों में घिरने के बाद अब जोहांसबर्ग की वांडरर्स पिच की वजह से टीम इंडिया और साउथ अफ्रीका के बीच तीसरा टेस्ट मैच खतरे में पड़ गया है। मीडिया रिपोर्टों के अनुसार, टेस्ट मैच पर संकट के बादल मंडरा रहे हैं। बताया जा रहा है कि वांडरर्स की पिच पर गेंद असामान्य रूप से उछल रही है। इससे बल्लेबाज काफी जोखिम का सामना कर रहे हैं।

पूरे मैच के दौरान अंपायर और कप्तान भी पिच के संबंध में चिंतित थे और वे बातचीत कर रहे थे। अब संभावना जताई जा रही है कि यह मैच रद्द हो सकता है। क्रिकेट मैच रद्द करने के लिए विभिन्न नियम हैं, लेकिन यदि कोई पिच खराब हो और उस पर खेलना मुश्किल हो जाए तो नियम 6.1 का पालन किया जाता है।

इस नियत के तहत, यदि पिच खराब हो और कप्तान खेलने को तैयार न हो तो मैच को रद्द घोषित कर दिया जाता है। इसके साथ यदि अंपायर यह महसू करे कि पिच पर बल्लेबाजी खतरनाक हो सकती है तो उसके संबंध में मैच रेफरी से बात की जाती है और मैच के भविष्य पर फैसला लिया जाता है।

wanderers
wanderers

जोहांसबर्ग की पिच इन कारणों को लेकर चर्चा में है। तीसरे दिन पिच के बर्ताव के संबंध में अंपायरों के बीच बातचीत हुई। उसके बाद यह चर्चा जोरों पर है कि मैच रद्द हो सकता है। दिन के आखिरी सेशन में बुमराह की गेंद डीन एल्गर के हेलमेट से जा टकराई थी।

तब मैच रेफरी एंडी पाइक्रॉफ़्ट ने कप्तानों से बातचीत की। हालांकि तीसरे दिन के मैच का समापन हो चुका है। अब शनिवार का मैच बाकी है। माना जा रहा है कि उसके लिए कोई अहम फैसला लिया जा सकता है।

पूर्व कप्तान सौरव गांगुली इस पिच को बल्लेबाजों के लिए अन्यायपूर्ण बता चुके हैं। उन्होंने कहा है कि आईसीसी को हस्तक्षेप करना चाहिए। उन्होंने ट्वीट में लिखा था कि इस प्रकार की पिच पर टेस्ट क्रिकेट खेलना अत्यंत अन्यायपूर्ण है। पूर्व कप्तान सुनील गावस्कर भी पिच की निंदा कर चुके हैं।