12 साल की उम्र में दिल दे बैठी थीं गायत्री देवी, ऐसे बनीं थीं महारानी

दुनिया की10 सबसे खूबसूरत महिलाओं में शुमार महारानी गायत्री देवी अपनी बिंदास लाइफ और लव-स्टोरी के लिए जानी जाती हैं। 23 मई 1919 को लंदन में जन्मी गायत्री देवी 12 साल की उम्र में ही वह महाराजा मानसिंह को अपना दिल दे बैठी थीं। जानिए ‘अ प्रिंसेज रिमेम्बर्स’ के कुछ ऐसे अंश, जिसमें गायत्री देवी ने अपनी लव स्टोरी को बयां किया है।

dailymail.com

पोलो ग्राउंड में हुई पहली मुलाकात
1931 की बात है। जय कोलकाता में पोलो सीजन शुरू होने पर हमारे साथ रहने आए थे। हरी रॉल्स रॉयस पर सवार। तब शायद 21 साल के रहे होंगे वो और मैं 12 साल की। बचपन में उन्हें मैं महाराजा ऑफ जयपुर और यॉर हाईनेस कहकर मुखातिब करती थी।

वो तब इंग्लैंड की वुलिच मिलिटरी एकेडमी से ट्रेनिंग लेकर लौटे थे। वहां से लौटकर उन्होंने जयपुर पोलो टीम बनाई। उस वक्त मैं एक ही सपना देखती थी। परी-कथाओं से ठीक उलट। मैं चाहती थी कि कोई जादू हो, मैं राजकुमारी से उनके घोड़े की सईस बन जाऊं। उन्हें उनकी छड़ी पकड़ाऊं और इसी बहाने उनके हाथ को छू भर लूं।

youandi.com

जय के लिए पहनी पहली बार साड़ी
अगले साल सर्दियों में जय फिर कोलकाता आए और एक बार फिर इंडिया पोलो एसोसिएशन चैम्पियनशिप जीत ली। मां उनकी जीत पर बहुत उत्साहित थीं। उनसे कहा, आज तुम जो चाहोगे तुम्हें मिल जाएगा। उन्होंने मां से मुझे कोलकाता के सबसे फैशनेबल रेस्त्रां में डिनर पर ले जाने की अनुमति मांगी। मां ने भी तुरंत हामी भर दी। फिर मेरे लिए उस खास सेलिब्रेशन डिनर पर जाने के लिए साड़ी की तलाश शुरू हुई, क्योंकि तब तक तो मैं सिर्फ ट्यूनिक और पायजामा पहनती थी।

youandi.com

शादी करना चाहते थे जय
कुछ समय बाद मैंने जय को मां से यह कहते हुए सुना कि वो मुझसे शादी करना चाहते हैं। मैं जय की हर बात ध्यान से सुनती और वो जो भी कहते उसकी नकल करती। वो पोलो खेलते हुए कलाई पर हमेशा बैंडेज बांधते थे। मुझे उनका पुराना बैंडेज मिला। ऐसा लगा जैसे कोई खजाना मिल गया। मैंने उसके कुछ धागे अपने लॉकेट के अंदर संभाल लिए। फिर जहां भी जाती लॉकेट पहनकर जाती थी। मेरा लकी चार्म था वो।

jaipur.com

ऐसे किया प्रपोज
कुछ समय बाद मेरा एडमिशन लंदन के एक फिनिशिंग स्कूल में हुआ। जब स्कूल का टर्म खत्म हुआ तो जय ने मुझे हाइड पार्क में बुलाया। उस दिन मुझे अहसास हुआ कि जय की सोच कितनी उन्नत है। उन्होंने कहा, मैं आपसे शादी करना चाहता हूं और मां से इस बारे में बात भी कर चुका हूं पर आपकी इच्छा जाने बिना इस बात को आगे नहीं बढ़ाना चाहूंगा। आपके लिए यह जानना जरूरी है कि मैं पोलो खेलता हूं, घुड़सवारी करता हूं और हवाईजहाज भी उड़ाता हूं इसलिए मेरे साथ कभी भी कोई भी हादसा हो सकता है। ऐसे में क्या आप मुझसे शादी करना चाहेंगी? मैंने उनकी बात सुनते ही कहा – हां, बिल्कुल।

missmalini.com

समुद्र किनारे हुई पहली बहस
कान्स में जय और मेरे बीच पहली बार बहस हुई। तब जय समुंद्र में तैरने जा रहे थे और उन्होंने मेरी दी हुई अंगूठी मेरी जगह मेरी बहन मेनका को संभालने को दी। मुझसे सहा नहीं गया और मैंने उस अंगुठी को समुंद्र में फैंक दिया। जय ने मुझे बहुत प्यार से समझाया कि वो मेरी भावनाओं को चोट नहीं पहुंचाना चाहते थे। मैं अभी संभली ही थी कि अचानक उन्होंने मुझे धक्का दिया और मैं समुंद्र के पानी में गिर गई। गुस्से में मैंने भी उनके जुते पानी में फैंक दिए।

उसी दिन लंच पर जब उनसे मिली तो मेरी उम्मीद के विपरित उन्होंने मुस्कुराते हुए मुझसे कहा कि वो जुते उन्हें पहले बड़े थे, पर अब पानी में नहाकर सिकुड़ने के बाद बिल्कुल फिट आ रहे है। हालांकि हमारी तकरार बहुत सीमित होती थी, पर जय से दूरी का ख्याल मुझे मायूस कर जाता था। वो फिर बियारिट्ज चले गए और वहां से रोज शाम को मुझे फोन करते। चूंकि हम किसी की नजरों में आना नहीं चाहते थे इसलिए मैं घंटों होटल लॉबी के टेलिफोन बूथ के फर्श पर बैठकर उनके फोन का इंतजार करती थी।