आप भी बरमूडा ट्राएंगल से जुड़ी हर खास बात को जान लीजिए

दुनिया के सबसे बड़े रहस्यों में से एक है बरमूडा ट्राएंगल। इस टॉपिक पर हजारों लेख लिखे जा चुके हैं, डॉक्यूमेंट्री बन चुकी हैं और खबरें भी लिखी जा चुकी हैं लेकिन फिर भी इस रहस्य पर से पर्दा नहीं उठ पाया है। माना जाता है कि जो भी जहाज या एरोप्लेन यहां से गुजरता है वो दूसरी दुनिया में चला जाता है। वैज्ञानिक भी आज तक इस रहस्य पर से पर्दा नहीं उठा पाए हैं। कहा जाता है दूसरी दुनिया से आने वाले एलियन इसी रास्ते से होकर पृथ्वी पर आते हैं।

जब हमने इंटरनेट पर इसके बारे में तलाश करना शुरु किया तो लाखों परिणाम हमारे सामने आ गए। हिन्दी और अंग्रेजी की लाखों वेबसाइटों पर बरमूडा ट्राएंगल को जगह दी गई है।

बरमूडा ट्राइएंगल, प्यूर्टोरिको, फ्लोरिडा और बरमूडा नामक तीन स्थानों को एक-दूसरे के साथ जोड़ता है और यह त्रिकोण अटलांटिक महासागर में अमेरिका के दक्षिण-पूर्वी तट पर स्थित है। कहा जाता है कि यहां पहुंचते ही ना तो जहाज का कोई पता चलता है और ना ही उसमें सवार यात्रियों का।

मैरी सेलेस्टी नाम का जहाज यहां से गायब हुआ था, और इसके बाद एलिन ऑस्टिन नाम का जहाज भी। इन दोनों जहाजों के इस तरह लापता हो जाने के बाद यूएसएस साइक्लोप्स नाम का जहाज भी यहां से गायब हो गया। कई हवाई जहाज भी यहां से गायब हो चुके हैं। इसी के चलते इसे मौत का त्रिकोण भी कहा जाता है। 1940 में दो अमेरिकी हवाईजहाज भी यहां से गायब हो गए थे।

– यहां बेहद ताकतवर चुंबकीय क्षेत्र है जहां कंपास काम करना बंद कर देते हैं।
– यहां मीथेन गैस का भंडार है जिसके कारण पानी का घनत्व कम हो जाता है।
– ऐसा होने के कारण जहाज पानी में तैर नहीं पाता और फिर डूब जाता है।
– चुंबकीय क्षेत्र होने के कारण विमान के कलपुर्जे भी काम करना बंद कर देते हैं।
– कहा तो ये भी जाता है कि कोलंबस का सामना भी इस त्रिकोण से हुआ था।
– माना जाता है समुद्र के भीतर बहने वाली नदियां भी इन हादसों का कारण हो सकती हैं।
– लोग कहते हैं कि इसके भीतर वक्त ठहर जाता है।
– इसको डेंजर जोन घोषित किया जा चुका है और अब नाविक इसके आसपास नहीं जाते।
– अफवाहें तो ये भी हैं कि यहां पर कोई समुद्री दैत्य रहता है और यह सब वही करता है।