पद्मावत विवाद से खड़ा हुआ सवाल: सुप्रीम कोर्ट बड़ा या करणी सेना?

पद्मावत फिल्म की विरोध देश भर में हो रहा है. देश के अलग अलग हिस्सों से हिंसा और विरोध प्रदर्शन की खबरें सामने आ रही हैं. ये विरोध आम जनता नहीं कर रही बल्कि करणी सेना और चंद अन्य संगठन कर रहे हैं. देश के सुप्रीम कोर्ट के निर्णय के बाद इस तरह के प्रदर्शन होने से सरकार पर भी सवाल खड़े हो रहे हैं.

फिल्म के पक्ष में भी एक बड़ा तबका दिख रहा है. कई बड़े पत्रकार, नेता और अभिनेता फिल्म के समर्थन में खड़े हैं. जिन जगहों पर हिंसक प्रदर्शन हुए हैं, जहां से हिंसा के वीडियो सामने आए हैं वहां की सरकारों पर भी सवाल खड़े हो रहे हैं. आखिर क्यों सरकारें इस तरह के प्रदर्शनों को रोक नहीं पा रही हैं. सोशल मीडिया पर भी सवाल हो रहे हैं कि सुप्रीम कोर्ट बड़ा या करणी सेना?

ये है पद्मावती की असली कहानी, जिसे हर भारतीय को जानना चाहिए

करणी सेना ने कई राज्यों के थिएटरों और मॉल्स में तोड़फोड़ की है. इसके बाद अब उनके निशाने पर फिल्मों के ऑनलाइन टिकट बुक करने की वेबसाइट BookmyShow है. करणी सेना ने इस वेबसाइट को धमकाया है कि फिल्म के टिकटों की बुकिंग बंद की जाए, वरना वे कभी कुछ बुक करने लायक नहीं रहेंगे.

देशभर में करीब सात हजार स्क्रीन पर पद्मावत रिलीज हो रही है. करणी सेना के विरोध के कारण कई सिनेमाघरों में फिल्म नहीं दिखाई जाएगी. कई राज्य के डिस्ट्रीब्यूटर्स और सिनेमाघरों ने फिल्म दिखाने से इनकार कर दिया है. उनका कहना है कि वे कोई जोखिम नहीं उठाना चाहते. सरकार ने भी सभी सिनेमाघरों के बाहर सुरक्षा के इंतजाम कर दिए हैं.

‘पद्मावत’ फिल्म का विरोध कर रही करणी सेना की गुंडागर्दी की वजह से पैरंट्स, स्कूल और बच्चे भी डरे हुए हैं. दिल्ली के स्कूल बच्चों की सेफ्टी को लेकर परेशान हैं. कुछ पैरंट्स अपने बच्चों को स्कूल नहीं भेजने के पक्ष में हैं और कुछ खुद बच्चों को स्कूल छोड़कर आ रहे हैं.