बस-ट्रक वालों ने नहीं, इस बार गधा मालिकों ने कर दी हड़ताल! वजह भी खास है

donkey strike
donkey strike

वडोदरा. अभी तक आपने बस, ट्रक और दूसरे वाहनों की हड़ताल के बारे में तो सुना होगा लेकिन शायद पहली बार सुन रहे होंगे कि गधा मालिकों ने भी हड़ताल कर दी है। यह हड़ताल कोई मामूली नहीं, बल्कि इससे लोगों को बहुत परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। पूरी व्यवस्था चरमरा गई है। लोग उम्मीद कर रहे हैं कि जल्द से जल्द यह हड़ताल खत्म हो ताकि व्यवस्था सुचारु हो सके।

1. यह मामला गुजरात के पावागढ़ का है। यहां गधों के मालिकों ने हड़ताल कर दी है। इस वजह से पहाड़ी इलाकों में सामान की आपूर्ति बंद हो गई है। दरअसल गधों के मालिक एक खास नियम का विरोध कर रहे हैं। यहां के जिला प्रशासन ने सामान लाने-ले जाने वाले जानवरों के लिए नियम बनाए हैं। इसके बाद नाराज गधों के मालिक हड़ताल पर चले गए।

2. चूंकि पहाड़ी इलाकों में सामान लाने-ले जाने का मुख्य साधन गधे ही हैं। इसलिए यहां सामान की किल्लत शुरू हो गई है। इस इलाके में गाड़ियां नहीं जा पातीं। ऐसे में गधों पर ही सामान लादा जाता है। जिला प्रशासन ने नियम बनाया है कि प्रति गधे पर ज्यादा से ज्यादा 50 किलो वजन ही लादा जाए। इससे ज्यादा वजन पहाड़ी इलाकों में ले जाने से जानवर को परेशानी होती है।

3. गधों के मालिक इस नियम से परेशान हो गए हैं। उनका कहना है कि नए नियम की वजह से उनकी कमाई कम हो जाएगी। ऐसे में गधे को पालना भी बहुत मुश्किल हो जाएगा। अगर कोई व्यक्ति 50 किलो वजन लादकर ही जाए तो इससे लागत काफी बढ़ जाएगी। इस तरह उनकी कमाई घटेगी और उन्हें कई चुनौतियों का सामना करना पड़ेगा। इसलिए यह हड़ताल की गई है। इस हड़ताल का परिणाम चाहे जो निकले लेकिन यह मीडिया में काफी सुर्खियां पा रही है।

अगर आपको हमारी ख़बरें पसंद आईं तो हमें इस पेटीएम नंबर पर कुछ योगदान करें – 9695059039