क्या बाबा की ‘हनी’ को पकड़ना मुश्किल ही नहीं नामुमकिन है?

kollytalk.com

हिन्दुस्तान में हरियाणा, चंडीगढ़, पंजाब, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश, यूपी और बिहार समेत 6 राज्यों की पुलिस हनीप्रीत को तलाशती रही, दीवारों पर पोस्टर चिपकाए गए, नाकेबंदी की गई, फिर भी गच्चा दे गई हनीप्रीत । जिस वक्त नेपाल में हनीप्रीत की तलाशी चरम पर थी उसी वक्त ख़बर आई कि हनीप्रीत श्रीगंगानगर में राम रहीम के एक हॉस्टल में छिपी है ।

हरियाणा और राजस्थान पुलिस का संयुक्त ऑपरेशन चला । आपको ये जानकर हैरानी होगी जिस वक्त श्रीगंगानगर में छापेमारी चल रही थी उसी वक्त नेपाल की सबसे बड़ी जांच एजेंसी CIB सेंट्रल इन्वेस्टिगेशन ब्यूरो के चीफ पुष्कर कार्की ने नेपाल में हनीप्रीत के नहीं होने की पुष्टि कर दी ।

दरअसल राम रहीम की गिरफ्तारी के बाद जिस रहस्यमय तरीके से हनीप्रीत राम रहीम के साथ दिखी उसी रहस्यमय तरीके से गायब भी हो गई । शक जताया गया कि हनीप्रीत राम रहीम की सबसे बड़ी राजदार है इसका जिंदा रहना औरों के लिए बड़ा खतरा हो सकता है । जिस वक्त एसआईटी की टीम पंचकूला में दंगा फैलाने के आरोप में राम रहीम समर्थकों की गिरफ्तारी कर रही थी उसी वक्त हनीप्रीत की हत्या की आईबी की तरफ से जताई गई आशंका से सनसनी फैल गई ।

हत्या की आशंका उन लोगों पर जताई गई जिनके साथ हनीप्रीत जेल से भागी थी । लेकिन हनीप्रीत के साथ जो आखिरी बार देखे गए वो भी अचानक सामने आ गए । जितेंद्र, वेदप्रकाश, संजय चावला, प्रदीप, नंदकुमार, प्रकाश उर्फ विक्की ये 6 लोग हैं जो हनीप्रीत के साथ आखिरी बार देखे गए । एक-एक कर ये सब सामने आ गए । प्रदीप और प्रकाश उर्फ विक्की को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया । प्रदीप और प्रकाश ने कहा हनीप्रीत नेपाल भाग गई ।

हरियाणा पुलिस ने हनीप्रीत को पकड़ने में मदद के लिए देश की इंटरनेशनल खुफिया एजेंसी रॉ की मदद मांगी । रॉ का नेटवर्क दुनिया के ज्यादातार देशों में फैला हुआ है । रॉ के एजेंट हनीप्रीत के पीछे पड़ गए । हर जगह से थकी हारी पुलिस को डेरा की चेयरपर्सन विपासना से क्लू मिला ।

विपासना ने कहा कि 25 और 26 अगस्त को हनीप्रीत डेरा में पिछले दरवाजे से आई थी । विपासना ने हनीप्रीत का ठिकाना भी बता दिया। दो देशों की पुलिस, खुफिया एजेंसियां अब तक नाकाम दिख रही हैं । तो क्या हनीप्रीत को आसमान खा गया या जमीन निगल गई ? कहां गई हनीप्रीत । लेकिन जहां भी होगी हनीप्रीत वो तो ये कह रही होगी ‘बाबा की ‘हनी’ को पकड़ना मुश्किल ही नहीं नामुमकिन है’